Sunday, June 13, 2021
Home Blog

Bayer to go big on OTC segment in India

0


German pharmaceutical giant Bayer AG plans to relaunch key brands such as Saridon in India as part of its strategy to focus on growing its consumer health portfolio globally, a senior company executive said.

“Starting this month itself, with the Saridon relaunch which is happening in the market and very soon there will be a Supradyn relaunch…. So, we are starting this business by relaunching the brands and bringing in all of our global might and expertise and understanding of the local India experiences for the betterment of the brands,” Sandeep Verma, country head for Bayer’s consumer health division in India said in an interview on Thursday.

On 4 June, Bayer launched its consumer health division in India, after several decades of partnership with Piramal Enterprises Ltd for its ‘superbrand’ Saridon and Supradyn.

Launched in 1933 by Hoffmann La Roche, Saridon was brought to India in 1969, and later in 1993, the Swiss multinational firm licensed the brand to Piramal, which used the analgesic tablets and Lacto Calamine to launch its consumer healthcare business that year.

Globally, the brand changed hands in 2008, with Bayer acquiring Roche’s consumer health business, and the Saridon brand along with it. However, the brand continued to be licensed to Piramal in India, until the relaunch of Bayer’s consumer health portfolio last week.

The move is in line with the multinational firm’s strategy to expand its consumer health business in four major markets—US, China, South-East Asia and India. The south Asian country is the smallest market among the four in the consumer health space but is still in focus primarily because of the scope for growth, Verma said.

Bayer will focus on 10 brands including headache relief medicine Saridon, multivitamin Supradyn, antifungal Canesten and anti-allergy drug Alaspan to grow its Indian business.

The company plans to significantly ramp up its marketing spend in the country, Verma said. “The execution strategy that we have is the ‘winning in many India execution strategy’ which essentially is a micro marketing strategy where you think of India as a collection of many small countries,” Verma said.

The strategy would essentially lead to the company ramping up its reach on social media, he added.

Verma said Bayer would look at ways of ramping up its Supradyn brand of multivitamins amid the pandemic that has led to an increase in such products.

To be sure, focus on OTC segments is not new in India, and Bayer is late to the segment as many Indian drugmakers like Cipla and Sun Pharmaceutical Industries have been working on ramping up this segment for a long time.

Verma said Bayer understands that it is a late entrant, but said that India is a growing market and offers opportunity to grow in segments where its brand has a strong presence.

Subscribe to Mint Newsletters

* Enter a valid email

* Thank you for subscribing to our newsletter.

Never miss a story! Stay connected and informed with Mint.
Download
our App Now!!

Pandemic has impacted 82% of small businesses: Survey

0


Over three-fourths of small businesses in the country have shown an adverse impact on their health during the COVID-19 pandemic, with those in the manufacturing sector reporting more troubles, according to a survey.

The survey, conducted by data firm Dun & Bradstreet has shown 82 per cent of businesses have experienced a negative impact during the pandemic year.

The survey was conduced among over 250 companies, evenly split between the manufacturing and services industries, having a turnover of 100-250 crore yearly.

Over two-thirds of those surveyed, or 70 per cent, said it will take them nearly a year to recover demand levels prior to COVID-19.

Over the past year, India has emerged to be one of the worst-affected nations globally by the COVID-19 pandemic. The resultant lockdowns, which are springing up again across the country with rise in cases, have an impact on the economic front as demand disappears along with dip in income generation.

Around 60 per cent of the companies surveyed expect more measures and support, including government initiatives, the survey focused on companies in seven metro cities, said.

The top-three challenges earmarked by the surveyed companies, which might hinder small businesses to scale up their businesses, include market access (flagged by 42 per cent), improving the overall productivity (37 per cent) and having access to more finance (34 per cent).

The company said its commercial disruption tracker indicated that around 95 per cent of firms were impacted in April 2020 when the national lockdown was imposed, and 70 per cent remained disrupted as of August even with progressive unlocking, which came down to 40 per cent by end of February 2021.

Citing its interactions with small businesses over the last two decades, the company said access to markets and better credit facility has been the major challenges in scaling up their operations.

Better credit facilities was the top-most voted aspect by companies, with 59 per cent of them saying it can aid in post-pandemic revival, followed by better marketing support (48 per cent) and adoption of technology (35 per cent).

“The rate of recovery of India’s commercial enterprises, and thereby the economy, will be determined by the strength of the recovery of small business,” said its Global Chief Economist Arun Singh.

This story has been published from a wire agency feed without modifications to the text.

Subscribe to Mint Newsletters

* Enter a valid email

* Thank you for subscribing to our newsletter.

Never miss a story! Stay connected and informed with Mint.
Download
our App Now!!

Nykaa looks to list at $4.5 bn valuation

0


Nykaa plans to go public later this fiscal at a valuation of $4.5 billion, a sharp rise from its earlier valuation of more than $3 billion, as the beauty retailing startup gains from a marked shift towards online sales during the coronavirus pandemic.

Nykaa, founded by former investment banker Falguni Nayar, will keep unchanged the size of the public offering at between $500 million and $700 million, said two people directly aware of the internal discussions. Both declined to be named as the talks are private.

They said the rise in Nykaa’s overall valuation is led by a spurt in revenue and profit for the e-commerce platform, primarily due to Covid-related disruptions, which has pushed more consumers to purchase online.

Mint reported in January, citing a person aware of the plans, that Nykaa was looking at going public by end-December or early 2022 at a valuation of more than $3 billion.

“The road shows are on for the IPO (initial public offer), and FSN Ecommerce Ventures Pvt. Ltd, the holding company of Nykaa, will file its draft red herring prospectus by this June-end or early July, and the IPO should take off in the March quarter of this fiscal,” one of the two people cited above said.

“The public offer will be coupled with an offer for sale to provide an exit to existing investors. The price band is yet to be decided, but a 10-20% stake of the firm could be offered to the public for an adequate free-float”.

A Nykaa spokesperson declined to comment.

Nykaa, which was founded in 2012, is India’s top women-centric online marketplace with around 15 million registered users and caters to 1.5 million orders a month. The platform has been able to carve out a niche for itself through excessive focus on the beauty and personal care segment, which differentiates it from horizontal e-commerce companies like Flipkart and Amazon.

Nykaa has appointed Kotak Mahindra Capital Co. and Morgan Stanley as managers for its IPO. While several large startups in the unicorn league, or those with a valuation of more than $1 billion, such as Paytm, Flipkart, Zomato, Policybazaar, Grofers, and Pepperfry, are also looking for public listings, Nykaa is the only startup that is profitable and will meet the criteria to list on the main board of Indian stock exchanges.

“Globally, fashion and lifestyle businesses have remained unscathed by the pandemic. Nykaa, like similar players outside India, has demonstrated phenomenal growth. It will have a first-mover’s advantage when it lists. The company has an immense potential to scale up and after this IPO, possibly, Nykaa’s contenders such as Colorbar too would look for public listing,” Sudip Bandopadhyay, group chairman of Inditrade Capital, a research, broking and investment advisory firm?.

Nykaa has posted annual profits since FY19. It was one of 11 startups to become a unicorn last year, after raising $25 million in March 2020 from Steadview Capital.

Second Covid wave: Govt’s decision to carry on with infra projects & its impact on thousands of workers

0


In a column in ET on May 10, 2020, the chairman of the Prime Minister’s Economic Advisory Council, Bibek Debroy, fell back on Greek mythology and explained how Odysseus, the hero, decided to sail closer to the sea beast Scylla and lose a few sailors rather than sacrifice the entire ship by drifting towards the monstrous whirlpool Charybdis. When Debroy wrote the piece last year, the government had just lifted a stringent nationwide lockdown and was in the horns of a dilemma — how much to unlock in the face of two evils, the Covid-19 pandemic (Scylla) and an economic disaster that could result in a massive loss of livelihood (Charybdis) due to a prolonged shutdown.

A year later, as the second wave of the pandemic sweeps across the nation, the government has remained firm on one count. It has decided to carry on with infrastructure projects in the midst of micro lockdowns and curfews across the country — even though it has meant risking the spread of the novel coronavirus at project sites as well as a rise in deaths. The government has chosen to confront Scylla, the pandemic, and avoid the other monster of large-scale mass migrations, loss of livelihoods and widespread hunger.


Occupation’s hazards


During the second surge, the National Highways Authority of India (NHAI), for example, has continued with all its 480 projects — worth Rs 5.1 lakh crore and covering a length of 25,000 km — even when there was a 20-25% drop in labour availability between March 31 and May 23, its chairman, Dr Sukhbir Singh Sandhu, told ET.

Similarly, Indian Railways has carried on with its regular construction work and key projects. Work on the dedicated freight corridors has continued with 50% workforce (the number fell from 29,700 on March 31 to 15,300 on May 8, for which data is available).

At the peak of the pandemic, the Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) also continued constructing its priority corridors approved under Phase 4 with just 2,900 workers, down from 4,100 since a complete lockdown was imposed in the national capital on April 19. According to a DMRC spokesperson, many labourers who went to meet their families during Holi (March 29) have yet to return to work. Also, in the heart of New Delhi, construction work continues at a project in the spotlight— the Rs 20,000 crore Central Vista redevelopment that envisages a new central secretariat, a parliament building and a residence for the prime minister, all by 2024, along the 3-km long Rajpath radiating from Raisina Hill.

The decision to not halt any of these flagship projects, or the many smaller ones, at the peak of the crisis has helped fortify the Indian economy, something that will be reflected only in the next round of macro numbers — gross domestic product (GDP) growth for Q1, tax collections, freight movements, consumption of commodities such as cement and steel as well as employment.

1

But this could well be a pyrrhic victory. India may have tried to win its economic battle during the second wave, saving the livelihoods of millions who are directly or indirectly engaged in core sectors, but it has come at a heavy human cost. Since April 1 when the virus and its variants spread aggressively, thousands of workers have fallen sick at project sites, and many have died.

“A lot of our own officials as well as those from the contractors’ side have been infected by Covid-19. Also, the dwindling number of workers at the sites has been a challenge for us. We have, however, tried our best to keep our morale high,” DMRC managing director Mangu Singh told ET.

NHAI Chairman Sandhu also echoes similar sentiments, narrating the difficult situation they were in, at least till recently “The second wave of Covid-19 has been very difficult for the country. Some of the NHAI employees have also been diagnosed Covid-positive and we lost five of our officers to the pandemic,” he says, adding that the peak appears to be over. On May 2, 4,884 workers deployed at NHAI sites by various private contractors were found to be Covid-positive, a number that dwindled to 2,580, a 48% drop, as on May 23, according to NHAI data.

In one of the railways’ flagship projects under construction — the dedicated freight corridors — the second wave of the pandemic took 22 lives, with 1,576 active cases and 761 recovered patients as on May 9, according to data previewed by ET. Those who died include a project director and a construction manager in its Noida segment, a blast hopper contractor, a cook and a security guard, all in Mughalsarai, a tract consultant in Vadodara and a bridge engineer in Surat, just to name a few.

In an email reply to ET’s queries, Ravindra Kumar Jain, managing director of the Dedicated Freight Corridor Corporation of India (DFCCIL), says the total Covid cases till May 1 were 1,397 with 15 deaths, clarifying that the cases pertained to DFCCIL officials, project management consultants and employees of project partners. The company, he says, is now adopting a bio-bubble — a secure environment where only Covidnegative workers reside and work, with no interface with outsiders.

ET spoke with families of two Covid victims — Nitesh Kumar Doshi, 36, who worked as an accountant at Vishal Nirmiti Pvt Ltd, a company that manufactures railway sleepers, and Rajesh Vishwakarma, 40, a bridge engineer with Oriental Consultants India, a Japanese consultancy that works for the DFCCIL.

Says Vishwakarma’s nephew Rahul Kumar: “My mama (maternal uncle) was visiting the site at Kamrej (30 km from Surat) when he tested Covid-positive. He was first admitted to a private hospital and then, when he was critical, we somehow shifted him to Surat’s civil hospital. He died on duty.” Kumar also claims that no one is talking about compensation to the family: “My aunt is a homemaker. They have three small children. How will the family survive?” Vishwakarma died on April 16, a week after he had tested positive.

The story of Doshi is similar to that of thousands of Indians across cities who died after a frantic hunt for oxygen and ventilators. “For me, Nitesh was like my son. After he tested positive, he had fever and cough. He was first in home isolation. Suddenly, he developed difficulty breathing,” says his elder brother Manish Doshi, who performed his last rites in Gujarat’s Mehsana. “Had he got a hospital bed with a ventilator, he would have possibly survived. We made a last-ditch effort to shift him to Ahmedabad, but by then, he had died,” he laments. Doshi leaves behind his wife, Madhu, and a six-month-old son, Kavish.

Many such heart-wrenching stories will surface once the government departments release data on Covid deaths. Many agencies have refused to update the official Covid numbers. “Since it is an extremely dynamic scenario, it would be difficult to share the figures (of Covid-positives and deaths) at this stage,” DMRC spokesperson replied to a query, adding that the company is ensuring that its contractors are providing proper accommodation, food and medical care to the workforce.

Sandhu of NHAI adds that all site officers, contractors and concessionaires have been asked to follow Covid protocol and get the maximum number of workforce vaccinated at the earliest. “We have also increased the life insurance cover for NHAI officials from `5 lakh to `20 lakh,” he says.

Meanwhile, engineering and construction firm Larsen and Toubro has announced an optional insurance of Rs 35 lakh, covering Covid-19, for employees in addition to the company’s group term-life insurance policy with a coverage of Rs 50-60 lakh per employee. With the overall Covid situation in India marginally improving, at least for now and in terms of daily new cases — from over 4 lakh a day in the first week of May to less than 2 lakh now — the focus of the infrastructure companies could shift towards getting back the migrant labourers and rescheduling project deadlines. “We are continuing our efforts to bring back some of our workforce who have migrated. We have made several arrangements, including train reservations and bookings as well as arranging buses, to get them back,” says DFCCIL’s Jain, adding that the target of completing 2,800 km of the corridors by June 2022 remains untouched. “There could be minor changes in the midterm milestones,” he adds.

What about the deadline of the ongoing phase of Delhi Metro? “It is too premature to talk about the impact on deadline since the second wave of the pandemic is still going on,” says managing director Singh. Maybe, we have to wait a little longer to see the tweaking of deadlines for many key core sector projects.

वयस्क टीकाकरण: मिथक बनाम वास्तविकता

नई दिल्ली: जबकि टीकाकरण लंबे समय तक प्रतिरक्षा बनाए रखने के लिए सबसे प्रभावी रोकथाम रणनीति है, वयस्क टीकाकरण उपेक्षित रहता है।

अपर्याप्त जागरूकता, आधिकारिक सिफारिशों के एक स्थापित निकाय की कमी और वैक्सीन हिचकिचाहट के परिणामस्वरूप वयस्क टीकाकरण मिथक प्रचलित हैं, जो पूरे भारत में टीके के कवरेज को कम करने में योगदान करते हैं। उदाहरण के लिए, टीकों की उपलब्धता और सार्वभौमिक रूप से अनुशंसित होने के बावजूद, भारत में टाइफाइड के मामलों में वृद्धि हो रही है। इससे पता चलता है कि वयस्कों को इसका प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए एक निवारक समाधान के रूप में टीकाकरण के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है।

एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ऑफ इंडिया द्वारा पहली बार वयस्क टीकाकरण की सिफारिशें भारत में वयस्क टीकाकरण की स्पष्ट आवश्यकता पर प्रकाश डालती हैं।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के पूर्व महानिदेशक निर्मल कुमार गांगुली ने कहा, “भारत में वयस्क टीकाकरण कवरेज बढ़ाने की संभावना है। इन साक्ष्य-आधारित सिफारिशों को विकसित करने के लिए, हमने विशेष प्रथाओं में स्वास्थ्य विशेषज्ञों का एक पैनल बुलाया, कार्डियोलॉजी से लेकर पल्मोनोलॉजी, गायनोकोलॉजी से नेफ्रोलॉजी तक। परिणाम ज्ञान का एक व्यापक निकाय है जो भारत में वयस्क टीकाकरण पर सर्वोत्तम प्रथाओं और विश्वसनीय जानकारी को रेखांकित करता है। इन सिफारिशों के माध्यम से, हम यह सुनिश्चित करने के लिए एक आदर्श बदलाव की उम्मीद करते हैं कि वयस्क टीकाकरण का सुझाव दिया जा रहा है और मुह बोली बहन।”

जबकि टीकाकरण संक्रामक रोगों को रोकता है, जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाता है और सुधारता है – वयस्क टीकाकरण पर जोर कम है। एपीआई की सिफारिशें जागरूकता बढ़ाने में मदद करेंगी और स्वास्थ्य चिकित्सकों को टीके की सिफारिश और प्रशासन का मार्गदर्शन करने के लिए साक्ष्य-आधारित जानकारी से लैस करेंगी।

टीकों के बारे में सामान्य भ्रांतियों के बारे में सूचित रहना और उन्हें दूर करना महत्वपूर्ण है, ताकि आप अपने डॉक्टर के साथ अपनी टीकाकरण बातचीत का अधिकतम लाभ उठा सकें!

यहाँ पाँच सामान्य वैक्सीन मिथक हैं, और उन्हें संबोधित करने के लिए जानने योग्य तथ्य। एबट इंडिया से इनपुट्स।

मिथक 1: टीके बच्चों के लिए हैं

तथ्य: जीवन के विभिन्न चरणों में टीकाकरण की सिफारिश की जाती है। चूंकि बचपन के टीकों के सुरक्षात्मक प्रभाव समय के साथ कम हो जाते हैं, इसलिए बूस्टर शॉट्स पर अप टू डेट रहना महत्वपूर्ण है। तेजी से वैश्वीकरण और अंतरराष्ट्रीय यात्रा की बढ़ती आवृत्ति ने वयस्कों में इन्फ्लूएंजा, हेपेटाइटिस ए और बी और अधिक सहित वैक्सीन-रोकथाम योग्य बीमारियों के अनुबंध की संभावना बढ़ा दी है। इससे वयस्कों में रोग का बोझ अधिक हो सकता है, सहरुग्णता बढ़ सकती है और वयस्कों में मृत्यु दर की उच्च दर से जुड़ा हो सकता है।

डिप्थीरिया, टेटनस, पर्टुसिस (डीपीटी) वैक्सीन जैसे टीके हैं जो आपको एक वयस्क के रूप में लेने चाहिए, भले ही आपने उन्हें एक बच्चे के रूप में नहीं लिया हो, जैसे कि हर दस साल में एक बार अनुशंसित बूस्टर शॉट।

मिथक 2: सभी वयस्कों को टीकों की आवश्यकता नहीं होती है

तथ्य: स्वस्थ वयस्कों सहित पूरी आबादी में टीकाकरण एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीति है, और कई टीकों की सार्वभौमिक रूप से सिफारिश की जाती है। इनमें इन्फ्लूएंजा, टाइफाइड और हेपेटाइटिस ए और बी के टीके शामिल हैं, जिसके परिणामस्वरूप पूरे भारत में मौसमी महामारी फैल गई है।

कुछ टीकों की भी आवश्यकता है, जैसे कि हेपेटाइटिस बी वन, विशेष रूप से जोखिम वाली आबादी के बीच, जिसमें सहरुग्णता वाले लोग, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता, जराचिकित्सा और गर्भवती महिलाएं शामिल हैं।

मिथक 3: टीके अनावश्यक परेशानी का कारण बनते हैं और मुझे बीमार करते हैं।

तथ्य: टीकाकरण फायदेमंद होते हैं और लंबे समय में बीमारी के बोझ और नकारात्मक जटिलताओं से बचने में मदद कर सकते हैं, इस प्रकार बेहतर स्वास्थ्य परिणाम प्राप्त होते हैं ताकि आप एक पूर्ण, परेशानी मुक्त जीवन जी सकें। इसके अलावा, टीके बीमारी का कारण नहीं बनते हैं, लेकिन निम्न-श्रेणी के बुखार, दर्द या खराश सहित अल्पकालिक दुष्प्रभाव होते हैं, जिनके बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है – वास्तव में, यह शरीर के टीके के प्रति प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का परिणाम है। .

मिथक 4: वैक्सीन लेने के बजाय स्वाभाविक रूप से फ्लू हो जाना बेहतर है, जिससे मेरी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाएगी।

तथ्य: स्वाभाविक रूप से फ्लू के संपर्क में आने का मतलब है कि बुखार, जोड़ों में दर्द और खांसी सहित मध्यम से गंभीर लक्षणों के साथ एक संभावित गंभीर बीमारी के लिए खुद को उजागर करना। यह चिंताजनक जटिलताओं या यहां तक ​​कि निमोनिया, श्वसन विफलता या यहां तक ​​कि रुग्णता में प्रगति कर सकता है, विशेष रूप से उच्च जोखिम वाले लोगों के लिए। टीकाकरण स्वयं को रोकने योग्य बीमारियों से बचाने के लिए एक अधिक सुरक्षित विकल्प है और वास्तव में, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है।

मिथक 5: मैंने पिछले साल इन्फ्लूएंजा का टीका लिया था, इसलिए मुझे फिर से इसकी आवश्यकता नहीं है

तथ्य: इन्फ्लुएंजा वायरस लगातार बदल रहे हैं और इसलिए, डब्ल्यूएचओ सालाना नवीनतम तनाव अनुशंसाओं की पहचान करता है और प्रदान करता है। इसलिए हर साल टीकाकरण करवाना महत्वपूर्ण है ताकि तेजी से अनुकूलन करने वाले इन्फ्लूएंजा वायरस के खिलाफ इष्टतम, निरंतर सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। यह भारत में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जहां 2012, 2015 और 2017 में राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात सहित विभिन्न राज्यों में इन्फ्लूएंजा का महामारी का प्रकोप हुआ है। अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए सालाना अपना फ्लू शॉट प्राप्त करें।

आगे क्या: अपनी वैक्सीन चेकलिस्ट जगह पर प्राप्त करें। अधिक मिथक-भंडाफोड़, गहन जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें ताकि आप टीकाकरण कार्यक्रम निर्धारित कर सकें और अपने स्वास्थ्य को नियंत्रण में रख सकें!

डॉ कविता मारीवाला सौंदर्य त्वचाविज्ञान में शीर्ष 3 रुझानों पर प्रकाश डालती हैं

0

सुंदरता की दुनिया धीरे-धीरे विकसित हो रही है। समय के साथ, लोग हमेशा अपनी त्वचा में सुधार करने और इसे जीवंत दिखने के लिए किनारे पर होते हैं। त्वचा का इलाज कैसे किया जा रहा है, समय के साथ बदल गया है। लोगों ने नियमित रूप से सौंदर्य त्वचा विशेषज्ञों के पास जाने के महत्व को समझा है। आपकी त्वचा का इलाज केवल स्वयं करने से बेहतर है कि कोई पेशेवर आपकी त्वचा का उपचार करे। स्किनकेयर विशेषज्ञ सभी प्रकार की त्वचा और सौंदर्य संबंधी मुद्दों को सबसे अच्छी तरह से संभालते हैं। सर्वश्रेष्ठ सौंदर्य त्वचा विशेषज्ञों में से एक, डॉ कविता मारीवाला, शीर्ष तीन सौंदर्य त्वचाविज्ञान प्रवृत्तियों पर प्रकाश डालती हैं।

माइक्रोब्लैडिंग एक ऐसा चलन है जिसे आजकल ज्यादातर महिलाएं फॉलो कर रही हैं। लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने, उन्हें आकार देने के लिए अपनी भौंहों पर टैटू बनवाना बेहतर समझा है। हर दिन आइब्रो को आकार देना और छुपाना बहुत कठिन होता है। कुछ लोग इस बात से सहमत हैं कि सिर्फ आइब्रो को आकार देना थकाऊ है और इसके लिए मेकअप आर्टिस्ट की आवश्यकता होती है। आपको उनकी सेवाओं के लिए भुगतान करने की आवश्यकता होती है और समय की खपत होती है। दूसरों ने इसे ठीक करने के लिए ट्यूटोरियल का उपयोग करने का प्रयास किया है; इसके बावजूद, यह समय का उपयोग करता है। अपनी भौहों को माइक्रो-ब्लेड करके, आप उस समय की बचत करते हैं जिसका उपयोग आप हर सुबह उन्हें आकार देने की कोशिश करते समय करते।

डॉ कविता ने हमेशा सलाह दी है कि त्वचा को हमेशा तरोताजा दिखने की जरूरत है न कि सूखी और जमी हुई। एक सौंदर्य त्वचा विशेषज्ञ के पास सूक्ष्म-सुई की यात्रा पर अपनी त्वचा का इलाज करें। यह त्वचा को जीवंत और युवा दिखने में मदद करेगा। अंत में, कोरोनावायरस के महामारी के हमले के बाद से, बहुत से लोगों ने अपने घरों में आराम से काम करना समाप्त कर दिया है। क्योंकि वे हमेशा अपनी स्क्रीन पर होते हैं, ज्यादातर हाइपरपिग्मेंटेशन से जूझ रहे होते हैं। पेशेवरों की मदद से, वे इन प्रकार की त्वचा के इलाज के लिए सही उत्पाद देते हैं।

स्किनकेयर स्वास्थ्य का एक अनिवार्य पहलू बन गया है जिसे लोग अब गंभीरता से ले रहे हैं। डॉ. कविता ने अपने रोगियों के इलाज के बाद उनकी त्वचा के उत्कृष्ट परिणामों के कारण उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद की है।

मोटापे से बढ़ता है COVID संक्रमण का खतरा: अध्ययन

यरूशलेम: बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) बढ़ने वाले लोगों में SARS-CoV-2 के लिए सकारात्मक परीक्षण का अधिक जोखिम हो सकता है, जो वायरस COVID-19 का कारण बनता है, एक नया अध्ययन पाता है।

इज़राइल में चैम शेबा मेडिकल सेंटर के शोधकर्ताओं ने पाया कि SARS-CoV-2 के लिए सकारात्मक परीक्षण की संभावना सामान्य बीएमआई वाले लोगों की तुलना में अधिक वजन वाले या मोटे रोगियों में 22 प्रतिशत अधिक थी।

कक्षा I के मोटापे वाले लोग (बीएमआई 30.0-34.9 किग्रा / एम 2) सकारात्मक परीक्षण के 27 प्रतिशत अधिक जोखिम से जुड़े थे, जो कि द्वितीय श्रेणी के मोटापे (बीएमआई 35.0-39.9 किग्रा / एम 2) के लिए बढ़कर 38 प्रतिशत और 86 प्रतिशत अधिक कक्षा III या रुग्ण मोटापे में जोखिम (बीएमआई 40.0 किग्रा / मी 2 से ऊपर या उससे अधिक)।

मोटापे से संबंधित कारकों, जन्मजात और अनुकूली प्रतिरक्षा प्रणाली में बदलाव, जिनमें अतिरिक्त वजन होता है, को माना जाता है कि यह विभिन्न वायरल रोगों के अनुबंध के बढ़े हुए जोखिम के साथ जुड़ा हुआ है। बीएमआई और वायरल संक्रमण के जोखिम के बीच यह संबंध बताता है कि एक व्यक्ति के बीएमआई और SARS-CoV-2 को अनुबंधित करने के उनके जोखिम के बीच एक समान संबंध भी हो सकता है, ने कहा कि हैदर मिलोह-रेज़ के नेतृत्व में टीम, वर्सिटी से।

अध्ययन अवधि (16 मार्च से 31 दिसंबर, 2020 के बीच) में कुल 26,030 रोगियों का परीक्षण किया गया, और 1,178 सकारात्मक COVID-19 परिणाम दर्ज किए गए।

उन्होंने पाया कि एक मरीज के बीएमआई में प्रत्येक 1 किग्रा / एम 2 वृद्धि SARS-CoV-2 के लिए सकारात्मक परीक्षण के जोखिम में लगभग 2 प्रतिशत की वृद्धि के साथ जुड़ी थी।

इसके अलावा, शोधकर्ताओं ने पाया कि मधुमेह वाले लोगों में सकारात्मक परीक्षण की संभावना 30 प्रतिशत अधिक थी, जबकि उच्च रक्तचाप वाले रोगियों में सकारात्मक परीक्षण का जोखिम लगभग छह गुना अधिक था।

इसके विपरीत, स्ट्रोक (39 प्रतिशत), आईएचडी (55 प्रतिशत), और सीकेडी (45 प्रतिशत) के इतिहास वाले रोगियों में सकारात्मक परीक्षण की संभावना कम थी। हालांकि, अध्ययन ने इसका कारण नहीं बताया। अध्ययन ने COVID मृत्यु दर या परिणामों को भी नहीं देखा, केवल सकारात्मक परीक्षण के जोखिम को देखा।

निष्कर्ष 1021 और 13 मई के बीच ऑनलाइन आयोजित मोटापे पर 2021 यूरोपीय कांग्रेस में प्रस्तुत किए गए थे।

यदि आप महामारी के दौरान शादी की योजना बना रहे हैं या उसमें भाग ले रहे हैं तो क्या करें

उनके पास कला, देहाती स्थल, अनुरूप पोशाक और एक अतिथि सूची थी, जिसमें उनके करीब 150 मित्र और परिवार शामिल थे। लेकिन महामारी की अन्य योजनाएं थीं, कार्ली चालर्स और मिशेल गौविन को अपनी शादी के बारे में दो बार कठिन निर्णय लेने के लिए मजबूर करना। “सब कुछ बदल रहा था,” चालर्स ने कहा, एक टोरंटो-आधारित विपणन प्रबंधक जिसका नाम मूल रूप से मई 2020 के लिए योजनाबद्ध था, उसके प्रांत के कोरोनोवायरस लॉकडाउन शुरू होने के दो महीने बाद। “मार्च 2020 में, ऐसा लगा कि हर दिन कुछ ऐसा होगा जो हमारी शादी के लिए ताबूत में एक अन्य नाखून की तरह था।” दंपति, जो 2018 में लगे हुए थे, ने जल्दी से गियर बदल दिए, जो कि जुलाई में चल रहे ‘चालर्स माता-पिता के पिछवाड़े में उनकी छोटी सी सालगिरह पर एक छोटी सी शादी के लिए चुना गया और मई 2021 के लिए उनके बड़े रिसेप्शन को फिर से शुरू किया। उन्होंने आखिरकार बाद में रद्द कर दिया, अच्छे के लिए ओंटारियो के हाल के कोविड -19 मामले की वृद्धि।

हमें बस एहसास हुआ कि यह उस दिन होने वाला नहीं था जैसा हम चाहते थे, “चालर्स ने कहा। यात्रा प्रतिबंध और (धीमी गति से) टीकाकरण रोलआउट के साथ, हम बस जानते थे कि लोग सुरक्षित महसूस नहीं करेंगे।” सामान्य समय के दौरान शादी की योजना बनाने के लिए “काफी तनावपूर्ण है,” उसने कहा, लेकिन एक अतिरिक्त बोझ “चिंता की बात है,” ओह, मेरी शादी में आने के परिणामस्वरूप कोई बीमार हो सकता है और मर सकता है|

महामारी के दौरान शादी करने के लिए छोटे, बाहरी समारोह चालर्स और गौविन एक कम जोखिम वाला तरीका था। लेकिन कोरोनोवायरस प्रतिबंध के रूप में, कुछ जोड़े अधिक विस्तृत समारोहों के लिए चयन कर रहे हैं, और इस प्रक्रिया में नए चिंताओं, मानकों और शिष्टाचार नियमों के एक मेजबान के लिए दरवाजा खोल रहे हैं। किसी भी तरह से, विशेषज्ञों का कहना है कि आपके समुदाय की सुरक्षा के साथ-साथ आपके मेहमान सर्वोपरि हैं। इसमें स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ काम करना और स्थानीय नियमों पर ध्यान देना शामिल है, यूएस सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन सलाह देता है। परिवार के चिकित्सक डॉ। अदा स्टीवर्ट ने कहा, “जब तक चीजें बेहतर नहीं हो जातीं, मुझे लगता है कि हमें अभी भी खुद को आनंद लेने के लिए अभिनव तरीके खोजने हैं, दो व्यक्तियों के आने (एक साथ) का जश्न मनाने और इसे सुरक्षित तरीके से करने के लिए।” कोलंबिया, दक्षिण कैरोलिना में सहकारी स्वास्थ्य और अमेरिकन एकेडमी ऑफ फैमिली फिजिशियन के अध्यक्ष के साथ। क्या महामारी शादियों की तरह लग सकता है सीडीसी ने यह सिफारिश करना जारी रखा है कि टीकाकरण की स्थिति की परवाह किए बिना लोग बड़ी सभाओं से बचें। जब संक्रमित लोग खाँसी, छींक या बात करते हैं और अन्य लोग उन बूंदों में सांस लेते हैं, और जब कोरोनवायरस वायरस में जमा होता है, या हवा में बहता है, तो कोरोनावायरस फैलता है। सीडीसी के अनुसार, लोग दूषित सतहों पर कोरोनावायरस को पकड़ सकते हैं, लेकिन यह बहुत कम जोखिम है। यही कारण है कि शादियों – विशेष रूप से इनडोर वाले – संभावित रूप से जोखिम भरा है। बहुत से लोग संभवतः एक ही क्षेत्र में पैक, बात कर हँस, खाने, पीने और नृत्य – हो सकता है यहां तक ​​कि गले और चुंबन – वायरस पनपने के लिए एक आदर्श वातावरण बनाता है। कोविड -19 मामलों की एक उच्च या बढ़ती संख्या जहां घटना हो रही है – या उन क्षेत्रों में जहां मेहमान यात्रा कर रहे हैं – केवल उस जोखिम को बढ़ाते हैं।

वेंटिलेशन गुणवत्ता एक और कारक है जो इनडोर शादियों को अधिक अनिश्चित बना सकता है। आउटडोर शादियों, जैसे कि एक चाल्मर्स और गौविन के पास स्वाभाविक रूप से उस चिंता से बचना चाहिए। जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी मिलकेन इंस्टीट्यूट में एक आपातकालीन चिकित्सक और स्वास्थ्य नीति और प्रबंधन के प्रोफेसर सीएनएन मेडिकल एनालिस्ट डॉ। लीना वेन ने कहा, “पूरी तरह से बाहरी शादी (जो कि अज्ञात टीकाकरण की स्थिति के लोग हैं) के साथ बहुत कम जोखिम है।” स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ। चेल्मर्स और गौविन ने अपने माता-पिता के पिछवाड़े बगीचे से घिरे एक लकड़ी के पेर्गोला के नीचे अपनी प्रतिज्ञा को कहा। “हमारे फूलवाला ने एक सुनहरा मेहराब लगाया और उसे फूलों से सजाया,” उसने ईमेल के माध्यम से कहा। “हमारे दोस्त जो एक थिएटर कंपनी के मालिक हैं, पहले ही दिन में आए थे और उन्होंने हमारे साइनिंग टेबल को सेट करने के लिए अपने प्रॉप्स का इस्तेमाल किया था, जिसमें एक ‘पुराना ट्रेन स्टेशन’ वाइब था, जो मेरे पति को गाड़ियों से प्यार था।” चेल्मर्स और गौविन ने अपने छोटे से समारोह और स्वागत समारोह को भी जीवंत कर दिया ताकि अन्य प्रिय लोग वस्तुतः उपस्थित हो सकें। वर्चुअल शादियां हमेशा एक सुरक्षित विकल्प होती हैं – और सीडीसी ने उन लोगों के लिए सलाह दी है जो कोविड -19 सुरक्षा सावधानियों को लागू नहीं कर सकते हैं।

ब्राइड-टू-बी टेलर टैमलिंग-थर्न को 10 अप्रैल को मैनचेस्टर, आयोवा में ब्राइड्स एंड वेडिंग्स में शादी की पोशाक के लिए टैमलिंग-थर्न दुकानों के रूप में सम्मान की अपनी नौकरानी से कुछ सहायता मिलती है। चाल्मर्स की शादी अंतरंग थी, लेकिन इसने उसे थोड़ा समझदार बना दिया। “मुझे अब भी याद है कि जब हमारी शादी हुई और हम अपने माता-पिता के पीछे के बगीचे में अपनी नन्ही परी को लेकर वापस चले गए,” चेलमर्स ने याद किया। “यह वास्तव में मुझे मारा … कि मैंने हमेशा अपने सभी दोस्तों और परिवार के साथ उस पल की कल्पना की थी और वे वहां नहीं थे। और साथ ही, कोविड के कारण, मैं अपने परिवार के सदस्यों को भी गले नहीं लगा सकता था। ” इनडोर शादियां जोखिम भरी होती हैं, लेकिन यह संभव है कि अगर जोड़े परंपरा को यथासंभव सुरक्षित रखें। क्या शादी में टीकाकरण के प्रमाण की आवश्यकता है “सब कुछ बदल जाता है,” वेन ने कहा। “यदि सभी को पूरी तरह से टीका लगाया जाता है, तो प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता नहीं हो सकती है।” वेन ने कहा कि पूर्ण टीकाकरण के बिना शादियों में ऐसे मेहमान हो सकते हैं जो बिना पढ़े-लिखे या आंशिक रूप से टीका लगाए हुए हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है। एक विवाह स्थल की सुरक्षा आंशिक रूप से लेआउट या बैठने की क्षमता पर निर्भर हो सकती है, ताकि विभिन्न घरों के लोग कम से कम 6 साल के हो सकें। शिकागो के एक शादी और कार्यक्रम में डेजनए इवेंट्स के अध्यक्ष और प्रमुख योजनाकार, देसरे डेंट ने कहा, “हम पूरी योजना के दौरान (स्टेशनरी का उपयोग करते हैं, जो युगल ने पूरी योजना प्रक्रिया में इस्तेमाल किया है), मेहमानों को सामाजिक रूप से दूरी की याद दिलाते हैं।” योजना कंपनी। यहां आपको सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में जानने की जरूरत है

 

HDFC Q4 परिणाम: 42% YoY का लाभ 3,180 करोड़ रु

 
 

हाउसिंग फाइनेंस ऋणदाता ने एक बयान में कहा कि 31 मार्च, 2021 को समाप्त तिमाही के लिए कर से पहले का लाभ, पिछले वर्ष की इसी तिमाही में 2,692 करोड़ रुपये की तुलना में 3,924 करोड़ रुपये था, जो 46 प्रतिशत की वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है।

हाउसिंग फाइनेंस ऋणदाता एचडीएफसी ने जनवरी-मार्च तिमाही के लिए 3,180 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया है। कंपनी ने Q4F321 के लिए स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ में 42 प्रतिशत सालाना (वाई-ओ-वाई) वृद्धि दर्ज की है। एचडीएफसी ने एक बयान में कहा कि 31 मार्च, 2021 को समाप्त तिमाही के लिए कर से पहले का लाभ 469 प्रतिशत की वृद्धि का प्रतिनिधित्व करते हुए, पिछले वर्ष की इसी तिमाही में 2,692 करोड़ रुपये की तुलना में 3,924 करोड़ रुपये था।

एचडीएफसी ने एक बयान में कहा, “744 करोड़ रुपये के कर के बाद, कर के बाद लाभ पिछले वर्ष के 2,233 करोड़ रुपये के मुकाबले 3,180 करोड़ रुपये था।” क्रमिक आधार पर, HDFC का शुद्ध लाभ Q3FY21 में 2,925.8 करोड़ रुपये से 8.6 प्रतिशत बढ़ा। 31 मार्च, 2021 को समाप्त वर्ष में कंपनी का स्टैंडअलोन लाभ 12,027 करोड़ रुपये था। इस बीच, कंपनी का वित्त वर्ष 2015 के लिए समेकित लाभ 30 प्रतिशत बढ़कर 5,350 करोड़ रुपये हो गया।

KEKI MISTRY ने MD के रूप में जवाब दिया

एचडीएफसी के बोर्ड ने आज से तीन साल की अवधि के लिए निगम के प्रबंध निदेशक के रूप में केकी मिस्त्री की फिर से नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। आवास वित्त ऋणदाता बोर्ड ने भी वित्त वर्ष २१ के लिए २३ रुपये प्रति इक्विटी शेयर के लाभांश की सिफारिश की है, जबकि पिछले वर्ष २१ रुपये प्रति इक्विटी शेयर था।कंपनी ने यह भी कहा: निवेश की बिक्री, लाभ, उचित मूल्य समायोजन, नियत ऋण पर आय, कर्मचारी स्टॉक विकल्प और प्रावधानों के लिए समायोजित, समायोजित लाभ पर बिक्री के लिए लाभ के समायोजन के बाद वित्तीय की तुलना की तरह। 31 मार्च, 2021 को समाप्त वर्ष के लिए कर से पहले, पिछले वर्ष में 11,586 करोड़ रुपये की तुलना में 19 प्रतिशत बढ़कर 13,823 करोड़ रुपये हो गया। यह ध्यान दिया जा सकता है कि एचडीएफसी का क्यू 4 परिणाम ज्यादातर बाजार अनुमानों के अनुरूप था।

ऋण बुक करें और गुणवत्ता देखें

प्रबंधन के तहत HDFC की संपत्ति पिछले वर्ष के 5.16 लाख करोड़ रुपये की तुलना में Q4FY21 के अंत में लगभग 5.70 लाख करोड़ रुपये थी। कंपनी ने कहा, “31 मार्च, 2021 तक, व्यक्तिगत ऋण में AUM का 77 प्रतिशत शामिल था। 31 मार्च 2021 तक, एयूएम आधार पर व्यक्तिगत ऋण पुस्तिका में 12 प्रतिशत और गैर-व्यक्तिगत ऋण पुस्तक में 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई। कुल एयूएम में वृद्धि 10 प्रतिशत थी। ” कंपनी ने यह भी कहा कि Q4FY21 के दौरान, पिछले वर्ष की इसी तिमाही में व्यक्तिगत ऋण संवितरण में 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई। एचडीएफसी ने कहा, “31 मार्च 2021 तक, एचडीएफसी द्वारा क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) के तहत संचयी ऋण 39,333 करोड़ रुपये था और संचयी सब्सिडी राशि 5,211 करोड़ रुपये थी।”

Q4 के अंत में, HDFC की सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (GNPA) ऋण पोर्टफोलियो का 9,759 करोड़ रुपये या 1.98 प्रतिशत थी। व्यक्तिगत पोर्टफोलियो का एनपीए 0.99 प्रतिशत था जबकि गैर-व्यक्तिगत पोर्टफोलियो 4.77 प्रतिशत था।

सेंसेक्स, निफ्टी मामूली बढ़त के साथ; अस्थिरता के बीच स्टील कंपनियां बढ़ती हैं

0
एनएसई निफ्टी 50 इंडेक्स 0.2% बढ़कर 14,894.9 पर बंद हुआ, जबकि बेंचमार्क एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स 0.06% बढ़कर 49,765.94 पर बंद हुआ। सत्र के प्रत्येक सूचकांक में दोनों सूचकांक 1 प्रतिशत से अधिक बढ़े।
चीन के मेटल पर चीन के टैरिफ में बदलाव के बाद स्टील कंपनियों के शेयरों में भारी उछाल के बाद गुरुवार को अस्थिर सत्र के बीच मार्च के बाद से भारत के शेयर अपने उच्चतम स्तर पर समाप्त हो गए।

एनएसई निफ्टी 50 इंडेक्स 0.2% बढ़कर 14,894.9 पर बंद हुआ, जबकि बेंचमार्क एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स 0.06% बढ़कर 49,765.94 पर बंद हुआ। सत्र में प्रत्येक बार दोनों सूचकांक 1% से अधिक बढ़े।

निफ्टी और सेंसेक्स ने फरवरी की शुरुआत में अपनी सबसे लंबी जीत की लकीर भी दर्ज की, यहां तक ​​कि पुष्टि की गई कि भारत में COVID-19 मामले पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमणों में रिकॉर्ड वृद्धि के साथ 18 मिलियन से अधिक हो गए।

हालांकि, विश्लेषकों ने मार्च-तिमाही की कमाई पर ध्यान केंद्रित करने के लिए चुना है, विश्लेषकों ने कहा। एक्सिस बैंक लिमिटेड, आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड और विप्रो लिमिटेड सहित कुछ प्रमुख कंपनियों ने अब तक मुनाफे में बढ़ोतरी दर्ज की है।

स्टीलमेकर्स टाटा स्टील लिमिटेड और जेएसडब्ल्यू स्टील लिमिटेड गुरुवार को निफ्टी 50 पर सबसे अधिक लाभ में रहे, क्रमशः 6.2% और 9.6%, उच्च रिकॉर्ड करने के लिए।

इसने अपने कुछ इस्पात उत्पादों के निर्यात कर छूट को हटाते हुए, कुछ स्टील के लिए अस्थायी आयात शुल्क में छूट देने के लिए चीन के कदम का अनुसरण किया।

बाजार मूल्य के आधार पर भारत की सबसे बड़ी कंपनी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, 1.3% समाप्त हो गई और शुक्रवार को अपनी कमाई से आगे, शीर्ष वृद्धि थी।
बजाज फाइनेंस ने 3.9% और बजाज फिनसर्व ने 6.6% की बढ़त हासिल की, जो पहले सप्ताह में मजबूत परिणामों की रिपोर्ट करने के बाद लाभ बढ़ा।

बड़ी छाया ऋण देने वाला सहकर्मी एचडीएफसी लिमिटेड 1.5% गिरा और बेंचमार्क इंडेक्स पर सबसे बड़ा ड्रैग था।

बजाज ऑटो 1.4% फिसल गया, जबकि हिंदुस्तान यूनिलीवर उनके तिमाही परिणामों के बाद काफी हद तक सपाट था। टाइटन कंपनी के दिन में परिणाम की रिपोर्ट करने की उम्मीद है।

निफ्टी ऑटो इंडेक्स 1% गिरा।
x